फांसी देते वक़्त जल्लाद मुजरिम के कान में कहता है ये शब्द

फांसी देते वक़्त जल्लाद मुजरिम के कान में कहता है ये शब्द  हेलो दोस्तों हिंदी में ज्ञान पर आपका स्वागत है आजकी इस पोस्ट में हम आपको General Knowledge से Related सवाल का जवाब देने वाले हैं जो बहुत ही Interesting सवाल है। अक्सर हमसे कोई ऐसा सवाल कर लिया जाता है जो में Study के दौरान नहीं पढ़ाया जाता। आजका सवाल भी कुछ इसी तरह है। 

फांसी देते वक़्त जल्लाद मुजरिम के कान में कहता है ये शब्द

दुनिया में जितने भी देश है सभी देशों में हर जुर्म की सजा अलग – अलग है कहीं पर फांसी की सजा दी जाती है तोह कहीं पर उम्र क़ैद की सजा दी जाती है। ये बात तय है की भारत में फांसी लागू नहीं लेकिन जब किसी का गुनाह बड़ा होता है तब उसको फांसी दी जाती है जैसे बलात्कार, आतंकबादी, मर्डरर इत्यादि। 

दोस्तों क्या आप जानते हैं की जिस समय जल्लाद मुजरिम को फांसी देता है तब उसके कान में क्या कहता है। बहुत कम लोग ऐसे हैं जिनको इस सवाल का जवाब मालूम है। अगर आप जानना चाहते हैं तोह इस पोस्ट को आखिर तक पढ़ें। 

फांसी एक ऐसा नाम है जिसको सुनकर अच्छे – अच्छे की रूह कांपने लगती है वैसे तोह भारत में फांसी की सजा ना के बराबर दी जाती है लेकिन जब भी किसी को फांसी दी जाती तब उसमे भी बहुत सी शर्ते होती हैं जैसे – अपराधी को सुबह होने से पहले फांसी दी जाती है, फांसी देते वक़्त जल्लाद अपराधी के कान में कोई शब्द कहता है, फांसी देने के बाद अपराधी के शव को उसके घर वालों को सौंप दिया जाता है। दोस्तों फांसी भगवान की नज़र में बहुत बड़ा पाप है क्यूंकि उस अल्लाह ने उस भगवान ने ये इरशाद फ़रमाया है की किसी को ज़िन्दगी देना और किसी की ज़िन्दगी लेना सिर्फ मेरा काम है इसलिए फांसी देते वक़्त जल्लाद कैदी के कान में माफ़ी के कुछ ऐसे शब्द कहता है जो आज आपको जान्ने को मिलेंगे। 

भारत में फांसी देने के लिए सिर्फ 2 जल्लाद मौजूद है जिनको महीने के 4 हज़ार रूपए दिए जाते हैं जबकि अगर किसी आतंवादी को फ़ासी देना होती है तब जल्लाद को अलग से पैसे दिए जाते है। इंद्रा गाँधी के हत्यारों को फांसी देने के 25 हज़ार रूपए दिए गए थे। 

चलिए दोस्तों अब सीधे उस जानकारी की और चलते हैं जिसका आप सभी को बेसब्री से इंतज़ार है। 

फांसी देते वक़्त जल्लाद मुजरिम के कान में कहता है ये शब्द

Question – फांसी देने से पहले जल्लाद मुजरिम के कान में क्या कहता है ?

Answer – मुझे माफ़ कर दो हिन्दू भाई को राम राम मुसलमान भाई को सलाम हम क्या कर सकते हैं हम तोह हैं हुकुम के ग़ुलाम 

तोह दोस्तों मुझे उम्मीद है आपको ये Interesting Article बहुत पसंद आया होगा प्लीज इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और नीचे कमेंट में हमे ऐसे ही दूसरी interesting जानकारी भेजें। 

Hindi Me Jankari

Leave a Comment

0 Shares
Copy link
Powered by Social Snap