Eid-Ul-Fitr Shayari Collection – 2 Line Best Eid Shayari

जैसा की हम सब जानते हैं की रमजान रुखसत होते जा रहे हैं और बहुत जल्द ईद आने वाली है लोगों के मन में अभी से लड्डू फूटना शुरू चुके हैं क्यूंकि ईद एक ऐसे त्यौहार है जिसपर लोग अलग ही ख़ुशी महसूस होती है। ईद पर लोग एक दूसरे के घर जाकर बधाई देते हैं अथवा नए – नए पकवान बनाये जाते हैं और लोगों को दावत पे बुलाया जाता है लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपने घरवालों, दोस्तों और रिश्तेदारों से दूर होते हैं ऐसे में उन्हें ईद की बधाई कैसे दी जाए ये ख्याल दिल में आता है

आजके लेख में हम Eid Mubarak Shayari, SMS, Wishes इत्यादि का एक बहुत बड़ा कलेक्शन शेयर करने वाले हैं जिनको आप अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और घर वालों को शेयर करके Eid की बधाई दे सकते हो।

eid-ul-fitr shayari collection

ईद पर शायरी
कोई इतना चाहे तोह हमे बताना,
कोई फ़िक्र करे आपकी तोह बताना,
अरे ईद मुबारक तोह हर कोई कह लेगा,
कोई हमारे अंदाज़ में कहे तोह बताना।
ईद मुबारक शायरी
तुझे मेरी और न मुझे तेरी खबर जायेगी,
लगता है ईद इस बार दबे पाँव गुज़र जायेगी।
Eid Shayari for Girlfriend in Hindi
बता कौन से मौसम में उम्मीद-ए-वफ़ा रखें,
तुझको तोह ईद के दिन भी हम याद नहीं आये।
ईद शायरी इन हिंदी
तेरी दीद जिसको पसंद है वो नसीब क़ाबिल-ए-दीद है,
तुझे सोंचना मेरी चाँद रात, तुझे देखना मेरी ईद है।
Eid Wishes in Hindi
हमने तुम्हे देखा नहीं तोह क्या ईद मनाएं,
जिसने तुम्हे देखा उसे ईद मुबारक।
Eid Shayari For Lovers
कोई कह दे उनसे जाकर की छत पर न आया करें,
बेवजह ईद की तारीख बदल जाती है।
Eid SMS
वैसे तोह नहीं मिलते चलो कर लें बहाना,
सीने से लगो आकर और कहो ईद मुबारक।
ईद शायरी फॉर गर्लफ्रेंड
कितनी शिद्दत से फलक परनज़र आता नज़र आता है,
ईद के चाँद का अंदाज़ बिलकुल तुम्हारे जैसा है।
Eid Love Shayari
इतने मज़बूर थे ईद के रोज़ तक़दीर से हम,
रो पड़े मिलके गले आपकी तस्वीर से हम।
Eid Shayari For Friend
बादल से बादल मिलता है तोह बारिश होती है,
और हम जैसे दो दोस्त मिलते हैं तोह ईद होती है।
Eid Ul Fitr Shayari
तेरे बगैर हमने कुछ इस तरह गुज़ारी है ईद,
जैसे सफर में शाम-ए-गरीबन गुज़र गयी
ईद की शायरी
Chand Nikla toh main logo Se lipat lipat kar Roya,,, Gham k Aansoo the jo Khushiyon k Bahaane Nikle…..
……
Masoom se Armano ki Masoom si Duniya,,, Jo kar Gaye Barbaad Unhe Eid Mubaarak …!
Tujhse bicchre to ab hosh nahin,,, Kab chand hua kab eid hui….
Meri Tamnna To Na Thi Tere Bagair “EID” Guzaarne Ki,,, Magar Majboor Ko Majbooriyan Majboor Kar Deti Hai…..
Na kisi ka deedar hua, Na kisi k gale mile,,, Kaisi khamosh Eid thi, Jo aai or chali gai….
Udhar se Chand Tum Dekho, Idhar se Chand Hum Dekhe, Nigaahe Is tarah Takraayen, Ki Do Dilon ki Eid ho Jaye, Chand Raat Mubarak!!
Tujhe Yaad Karte Hai toh Eid Mana lete Hai,, Hum ne Apne liye Tyohaar alag Rakha Hai..!!
Dekha Eid ka Chand toh mangi Yeh Dua Rab Se,,, Dede tera Saath EID ka Tohfa Samaj ke…
Un Baccho ki Eid na jaane kaisi hogi Jin ki Jannat Nange Paun phirti hai.
Na Haath Diya, Na Gale Mile, Na Kuch Baat Huyi, Ab Tum Hi Batao Ae Saajan Ye Qayamat Hui ke EiD Hui.
Baaqi Dino Ka Hisaab Rahne Do, Ye Batao EiD Pe To Milne Aaoge Na.
Kitni Eid-En Guzar Gayi Tere Bin Ab Khuda Ke Liye Na Tarpana Dekho Phir Eid Aane Waali Hai Eid Ke Saath Tum Bhi Aa Jaana
Ae Roothe Hue Dost Mujhe Itna Bata De, Kya mujhse gale milne ka ab man nahin karta bacchon ki tarah dorrh ke aa seene se lag ja ye eid ka din hai koi dushman nahin hota
Yun teri chahate sambhali hain, Jaise eidi ho mere bachpan ki..
Sahib-E-Aql Ho Aap, ek Masla to Batao, Maine Rukh-E-Yaar Nahi Dekha Kya Meri “EID” Ho Gai???
Jo kho gaya hum se andheri raaton me,, Usi ko dhoond ke lao ke eid aayi hai…
..
..

Toh doston agar aapko sabhi shayari pasand aaye toh plz post ko share kare.

Hindi Me Jankari

Leave a Comment

0 Shares
Copy link
Powered by Social Snap